YES OSHO

Subscribe to YES OSHO feed
Updated: 12 hours 43 min ago

जिंदगी का सत्य!

Thu, 12/27/2018 - 07:40

जीवन झाग का बुलबुला है। जो उसे ऐसा नहीं देखते, वे उसी में डूबते और नष्ट हो जाते हैं। किंतु, जो इस सत्य के प्रति सजग होते हैं, वे एक ऐसे जीवन को पा लेने का प्रारंभ करते हैं, जिसका कि कोई अंत नहीं होता है।
Read : जिंदगी का सत्य! about जिंदगी का सत्य!

अतंरात्मा को आलोकित करो!

Wed, 12/26/2018 - 07:40

मैं क्या सिखाता हूं? एक ही बात सिखाता हूं। अपनी अंतरात्मा के अलावा और कुछ अनुकरणीय नहीं है। वहां जो आलोक का आविष्कार कर लेता है, उसका समग्र जीवन आलोक हो जाता है। फिर उसे बाहर की मिट्टी के दियों का सहारा नहीं लेना होता और दूसरों की धुआं छोड़ती मशालों के पीछे नहीं चलना पड़ता है। इनसे मुक्त होकर ही कोई व्यक्ति आत्मा के गौरव और गरिमा को उपलब्ध होता है।
Read : अतंरात्मा को आलोकित करो! about अतंरात्मा को आलोकित करो!

अंतस में खोजो

Tue, 12/25/2018 - 07:40

आनंद चाहते हो? आलोक चाहते हो? तो सबसे पहले अंतस में खोजो। जो वहां खोजता है, उसे फिर और कहीं नहीं खोजना पड़ता है। और, जो वहां नहीं खोजता, वह खोजता ही रहता है, किंतु पता नहीं है।
Read : अंतस में खोजो about अंतस में खोजो

जीवन संगीत

Mon, 12/24/2018 - 07:40

एक युवक ने मुझ से पूछा, ''जीवन में बचाने जैसा क्या है?'' मैंने कहा, ''स्वयं की आत्मा और उसका संगीत। जो उसे बचा लेता है, वह सब बचा लेता है और जो उसे खोता है, वह सब खो देता है।''
Read : जीवन संगीत about जीवन संगीत

आत्म-गहराई!

Sun, 12/23/2018 - 07:40

सुबह कुछ लोग आए थे। उनसे मैंने कहा, ''सदा स्वयं के भीतर गहरे से गहरे होने का प्रयास करते रहो। भीतर इतनी गहराई हो कि कोई तुम्हारी थाह न ले सके। अथाह जिसकी गहराई है, अगोचर उसकी ऊंचाई हो जाती है।''
Read : आत्म-गहराई! about आत्म-गहराई!

'मैं' का बंधन!

Sat, 12/22/2018 - 07:55

'मैं' को भूल जाना और 'मैं' से ऊपर उठ जाना सबसे बड़ी कला है। उसके अतिक्रमण से ही मनुष्य मनुष्यता को पार कर द्वियता से संबंधित हो जाता है। जो 'मैं' से घिरे रहते हैं, वे भगवान को नहीं जान पाते। उस घेरे के अतिरिक्त मनुष्यता और भगवत्ता के बीच और कोई बाधा नहीं है।
Read : 'मैं' का बंधन! about 'मैं' का बंधन!

Find a right receptivity for you

Fri, 12/21/2018 - 07:40

Practice love. Sitting alone in your room, be loving. Radiate love. Fill the whole room with your love energy.  Read : Find a right receptivity for you about Find a right receptivity for you

Pages